candlelight.jpeg

हर साल, हम उन लोगों को याद करने के लिए एक जलूस आयोजित करते हैं,

जिनका जीवन हिंसा से प्रभावित हुआ है। 1995 में सुज़ाना रेमेराटा ब्लैकवेल के

निर्दयी पती ने सुज़ाना, उनके अजन्मे बच्चे क्रिस्टीन, फीबी डिज़न, और वेरोनिका

लॉरेटा की किंग काउंटी कोर्टहाउस में गोली मार कर हत्या कर दी थी। सुज़ाना

अपने पति से तलाक मांग रही थी। यह दुखद घटना उन कारणों में से एक थी जिनसे

प्रेरित होकर हमारे लोगों ने साथ आकर ‘ए पी आई छाया’ (पहले एशियन एंड

पैसिफिक आईलैंडर वुमन एंड फैमिली सेफ्टी सेंटर और चाया) का आयोजन किया ।

इस ही अत्यावश्यकता की सांझी भावना के बल-बूते पर हमारे आज के सिफारिशी

और सामुदायिक आयोजन कार्यक्रम बनाये गये थे । हालांकि यह घटना बीस साल

पहले हुई थी, हमारे समुदायों में घरेलू और यौन हिंसा की महामारी अभी भी जारी

है।‘ए पी आई छाया’ का प्रतिबद्ध हैं हिंसा के उत्तरजीवियों, और हमारे सहयोगियों,

को साथ लाना, कहानियाँ बाटना, और एक ऐसी दुनिया के निर्माण करना जहाँ

सभी लोग खुश और कामयाब हो सके।